केसरिया और पलास के साथ ही अन्य पौधों से रंग बिरंगा होगा मां धारी देवी का परिसर

0
89
  • पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उठाया मां धारी देवी मंदिर परिसर के आसपास सघन वृक्षारोपण का जिम्मा
  • मां धारी देवी मंदिर के दोनों किनारों पर वृक्षारोपण करने की योजना

क्रांति मिशन ब्यूरो

देहरादून। केसरिया और पलास के साथ ही अन्य पौधों से रंग बिरंगा होगा मां धारी देवी का परिसर। पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उठाया मां धारी देवी मंदिर परिसर के आसपास सघन वृक्षारोपण का जिम्मा। मां धारी देवी मंदिर के दोनों किनारों पर वृक्षारोपण करने की योजना। एनएसएस और एनसीसी के साथ ही विश्वविद्यालय और अन्य स्कूल कॉलेजों के सहयोग से चलाया जाएगा वृक्षारोपण कार्यक्रम। मई में गड्ढे तैयार कर जुलाई में किया जाएगा सघन वृक्षारोपण। सभी की जियो टैगिंग की जाएगी।

पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने श्रीनगर में विश्वविद्यालय के शिक्षकों और श्रीनगर व चौरास के प्रबुद्ध लोगों के साथ हुई बैठक में व्यापक वृक्षारोपण की चर्चा। सभी ने पूर्व मुख्यमंत्री के प्रयासों को सराहा और सहयोग का दिया पूरा आश्वासन।

पूर्व मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत पर्यावरण प्रेमी के रूप में कर रहे हैं वर्ष 1993 से प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में लगातार वृक्षारोपण , मुख्यमंत्री रहते हुए 4 साल में देहरादून के ऋषि पर्णाऔर कोसी के साथ ही विभिन्न स्थानों पर किया गया व्यापक वृक्षारोपण, प्रदेश के लगभग सभी जिलों दूरस्थ स्थलों और मंदिर परिसर के आसपास कर चुके हैं वृक्षारोपण।

पीपल और बरगद के वृक्षों के रोपण पर है ज्यादा फोकस
मां धारी देवी मंदिर को जाने वाले रास्ते के किनारे पहले भी लगा चुके हैं कुछ पौधे