शिक्षा के साथ जरूरी है खेल प्रतियोगिताएं : डॉ धन सिंह रावत

0
163
  • विद्यालयों में प्रत्येक वर्ष आयोजित होंगी खेल प्रतिस्पर्धा
  • केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट ने दी छात्र-छात्राओं को शुभकामनाएं

क्रांति मिशन ब्यूरो

रूद्रपुर।  केन्द्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री, भारत सरकार अजय भट्ट एवं मंत्री, चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा, सहकारिता, उच्च शिक्षा, विद्यालयी शिक्षा एवं संस्कृत शिक्षा, उत्तराखण्ड सरकार डॉ धन सिंह रावत ने संयुक्त रूप से आज मनोज सरकार स्पोर्ट्स स्टेडियम रूद्रपुर में नवम राज्य स्तरीय क्रीड़ा एवं सांस्कृतिक प्रतियोगिता 2022 का शुभारम्भ दीप प्रज्वलित कर एवं ध्वज पताका फहराकर किया। श्री भट्ट ने खिलाड़ियों के परेड की सलामी ली।

भट्ट ने कहा कि नवम राज्य स्तरीय क्रीड़ा एवं सांस्कृतिक प्रतियोगिता में आये 2007 छात्र-छात्राओं, शिक्षक, रेफरी एवं अभिभावक को बधाई दी। उन्होने सभी शिक्षकों से कहा कि इस प्रतियोगिता के माध्यम से हम सब भविष्य के प्रतिभाओं को तलाश रहे है। उन्होने प्रतियोगिता में प्रतिभाग करने वाले सभी खिलाड़ियों को बधाई एवं शुभकामनाऐं दी। उन्होने कार्यक्रम के आयोजकों से कहा कि उक्त प्रतियोगिता में राज्य के सभी जनपदों से पहंुचें खिलाड़ियों को किसी भी प्रकार की कोई समस्या न हों इसका विशेष ध्यान रखें।

मंत्री चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्स शिक्षा, सहकारिता, उच्च शिक्षा, विद्यालयी शिक्षा एवं संस्कृत शिक्षा, उत्तराखण्ड सरकार डॉ0 धन सिंह रावत ने कहा कि इस वर्ष की भांति हम हर वर्ष इस प्रतियोगिता को करायेंगे ताकि बच्चों में खेल की भावना बढ़े। उन्होने कहा इस प्रतियोगिता में आने वाले सभी खिलाड़ियों के उज्जवल भविष्य की कामना करता हूं कि वह जिस क्षेत्र में भी जाये उसमें आगे बढ़े। उन्होने कहा कि हमारी सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में कई अभिनव प्रयोग किये है। श्री रावत ने कहा कि हमारे प्रदेश में लगभग 12 लाख बच्चे सरकारी विद्यालयों में पढ़ रहे है। उन सभी बच्चों को स्कूल बैग, किताबें, खेल का सामान दिया जायेगा, हर स्कूल में बालक, बालिका एवं दिव्यांगजनों के लिए शौचालय की व्यवस्था होगी, शिक्षकों की कमी नही होने दी जायेगी और विद्यालय का व्यापक स्तर पर सुधार करने का कार्य किया जायेगा। ताकि हमारे बच्चे प्रतिस्पर्धा में देश-विदेश में मुकाबला कर सके। उन्होंने कहा कि प्रत्येक ब्लॉक में 2-2 पीएमश्री स्कूल खोले जायेंगे। इन स्कूलों विश्व स्तर की सुविधाऐं छात्र-छात्राओं की दी जायेंगी। उन्होने कहा कि प्राथमिक विद्यालय के लगभग 23 हजार शिक्षकों को 10-10 हजार रूपये का एक टैबलेट फोन भी दिया जायेगा ताकि वे अपने-अपने विद्यालयों में बच्चों की अच्छी शिक्षा के लिए आईटी का प्रयोग कर सके।

इस अवसर पर विधायक शिव अरोरा, जिलाध्यक्ष कमल जिन्दल, गुंजन सुखीजा, जिलाधिकारी युगल किशोर पंत, अपर निदेशक प्रारम्भिक शिक्षा उत्तराखण्ड एसपी खाली, उपनिदेशक प्रा0 शिक्षा हेमलता भट्ट, कुमाऊं अपर निदेशक प्रा0 शिक्षा अजय कुमार नौडियाल, उपजिलाधिकारी प्रत्युष सिंह, मुख्य शिक्षा अधिकारी आरसी आर्या, जिला शिक्षा अधिकारी एके सिंह, सुरेश परिहार, विवेक सक्सेना, नागेन्द्र शर्मा, तहसीलदार नीतू डागर आदि थे।